Signup our newsletter to get update information, news, insight or promotions.
tlu

लॉकडाउन के 21 दिन मैं क्या करूं?

1. लॉकडाउन क्यों?

दोस्तों! ICMR के अनुसार कोविड 19 के खतरों को 62% तक कम किया जा सकता है यदि देश के समस्त नागरिक Social Distancing, लॉकडाउन और Quarantine का पूर्ण रूप से पालन करे। इसके अलावा अन्य कोई रास्ता नहीं है।

https://www.indiatoday.in/science/story/coronavirus-in-india-social-distancing-quarantines-reduce-covid19-cases-icmr-study-1659140-2020-03-24

इसीके मद्धे नज़र प्रधान मंत्री जी ने 21 दिन का लॉकडाउन घोषित कर दिया है। अब आप और हम घर में ही बंद हैं। करें तो क्या करें?

जिंदगी कभी लम्हों में गुज़र जाती थी
तो कभी ज़िन्दगी भर एक लम्हा नहीं गुजरता

अब तक हम बहुत व्यस्त थे। दिन और दिन पर दिन कैसे बीत जाते थे पता ही नहीं चलता था। परिवार को तो रविवार को भी समय देना मुश्किल हो जाता था। और ऐसी ही ज़िन्दगी की आदत पड़ चुकी थी। लेकिन यकायक आज लाइफ में किसी ने ब्रेक लगा दिया। और इस आकस्मिक ब्रेक के कारण हमारी गाड़ी कुछ लड़खड़ा गई है। हमारे सामने एक बड़ा प्रश्न है….

आखिर मैं इन 21 दिनों में क्या करूं? दोस्तों! आप यदि इन दिनों का सही उपयोग करें तो ये समय आपके लिए स्वर्णिम प्रमाणित हो सकता है।आने वाले समय में आप कह सकेंगे कि आपके जीवन में जो सकारात्मक बदलाव आया है वो सिर्फ इसलिए कि आपको ये समय ईश्वर से मिला।

तो, आइये दोस्तों! जानते हैं कि इन खाली दिनों का सदुपयोग कैसे करें और अपने जीवन में कैसे आमूल चूल परिवर्तन ले आयें!

हाँ, आपको अपनी डायरी और पेन तैयार रखने हैं और जहाँ कहा जाये वहाँ जरूर लिखना है, तभी आप कुछ अच्छे परिणाम हासिल कर सकेंगे।

2. अपने जीवन पर चिंतन करने का अवसर

ज़िन्दगी की उहा पोह में हम भूल ही गये हैं कि हमारे सपने क्या थे? कहीं कहीं हमने अपने सपनों से समझौता कर लिया। कारण यह रहा कि हमें सपने हासिल करने का मार्ग नहीं दिखाई दिया किन्तु जीविका चलाने हेतु हमें एक अलग मार्ग चुनना पड़ा।इस मार्ग पर हम इतना व्यस्त हो गये कि फिर कभी सपनों के बारे में सोचने की फुर्सत ही नहीं मिली।

दोस्तों! यही समय है जब आप अपने सपनों को पुनर्जीवित करें। नये सपने देखें। नये रास्ते, नयी आशायें, नया उत्साह। अपनी डायरी में लिखें कि आपको यदि ईश्वर सब कुछ देने को तैयार हो तो आप क्या लेना चाहेंगे?

अब लिखें कि आप जो कार्य आज कर रहे हैं क्या उससे आपके सपने पूरे हो सकेंगे? यदि हाँ, तो आप सही मार्ग पर हैं। यदि नहीँ, तो आपकी सफलता की सीढ़ी गलत दीवार पर टिकी हुई है। यही समय है दोस्तों, जब आप अपनी सीढ़ी को सही दीवार पर लगाने की योजना बना लें।

दोस्तों! यही मौका है जब आप अपने सपनों, अपने लक्ष्य को हासिल करने हेतु विस्तृत योजना बना सकते हैं। इसे हाथ से निकलने मत दीजिये।

नीचे दिए लिंक को ध्यान से पढ़ें और समझें। इसमें लिखे कार्य करके आप अपने सपनों के रास्ते पर आगे बढ़ सकेंगे।

https://thelifeuddeshya.com/dont-let-anybody-steal-your-dreams/

महत्वपूर्ण निर्देश….
कृपया आगे पढने से पूर्व ऊपर लिखे अनुसार कार्य सम्पन्न करें।

लॉकडाउन में जीवन पर चिंतन करे

3.अपने व्यक्तिगत विकास का अवसर….

हम प्रायः अपनी कमियों से वाकिफ होते हैं।किन्तु हमारे पास वक़्त ही नहीं होता कि उनके बारे में सोचें और उनको दूर करें।जैसे कि किसी व्यक्ति में लोगों के सामने बोलने की कला का ना होना। या कोई व्यक्ति जल्दी ही हार मान कर अपने कर्तव्य पथ से पीछे हट जाता है। दोस्तों! हम सब में कुछ ऐसी आदतें होती हैं जो हमें सफल होने से रोकती हैं।

https://thelifeuddeshya.com/winning-over-situations-in-life/

21 दिनों के लॉकडाउन का यही वक़्त है जब हम अपनी उन आदतों के बारे में सोचें जो हमारी सफलता के मार्ग में रुकावटें उत्पन्न करती हैं। अपनी डायरी के अगले पृष्ठ पर क्रमवार उन आदतों को लिखें।

अब प्रत्येक आदत के बारे में योजना बनायें कि आप कैसे उस आदत से मुक्त होंगे? एक एक स्टेप लिखें। आज से ही इस पर कार्य करना आरभं करे।

प्रायः हम अपनी कई योजनाओं पर कार्य करना चाहते हैं, किन्तु अन्य समस्याओं के रहते, कर नहीं पाते हैं।उदाहरण के तौर पर अपनी फिटनेस हेतु आप बहुत समय से योगा अथवा कुछ व्यायाम करने का सोच रहे थे। लेकिन शुरुआत नहीं हो पाई। आप अपने आने वाले 5 साल के लक्ष्य लिखना चाहते थे, किन्तु समय ही नहीं मिला। आप अपने बच्चों, लाइफ पाटर्नर या माता पिता को समय देना चाहते थे, लेकिन बहुत व्यस्त थे।

दोस्तों! कोरोना वायरस ने अब आपको समय दे दिया है कि आप अपनी डायरी के अगले पृष्ठ पर जायें और इन सभी योजनाओं को क्रमशः लिखें। फिर प्रत्येक योजना को अमल में लाने हेतु जो कार्य आवश्यक हैं, उन्हें लिखें। यदि इनके क्रियान्वयन में कोई बाधा है तो उसे लिखें। इन बाधाओं से आप कैसे निपटेंगे, यह भी लिखें।

अब आप तुरतं और अभी से इन योजनाओं पर कार्य आरभं कर सकते हैं। याद रखें, कुछ कार्य आप बिना किसी बाहरी मदद के कर सकेंगे और कुछ कार्य मोबाइल या इंटरनेट के माध्यम से हो जायेंगे। लेकिन यदि किसी कार्य के लिये आपको घर से निकलना जरूरी है तो उसकी पूरी योजना अभी बना लीजिये , पर उसे शुरू तब करें जब लॉकडाउन समाप्त हो जाये।

4.स्वयँ को व्यवस्थित करने का अवसर…

व्यस्तता के कारण प्रायः लोग अव्यवस्थित हो जाते हैं। पिछले माह मैं अपने मित्र शमीम के यहाँ गया था। रात्रि के 9 बजे वो ऑफिस से लौटे थे। उनकी हालत देखने योग्य थी। थके हुए से और उतरा हुआ सा चेहरा।

घर में भी सब कुछ अव्यवस्थित। कहने लगे कि समय ही नहीं है कि कुछ अपने, परिवार के लिये या घर के लिये सोचें।बस, ज़िन्दगी एक मशीन बन कर रह गई है।

दोस्तों! यदि आपके जीवन में भी व्यस्तताओं के चलते कुछ ऐसा ही हो रहा है तो कोरोना के कारण उत्पन्न हुए इस लॉकडाउन के समय में अपने आपको व्यवस्थित कर लीजिये ।

अपनी डायरी के अगले पृष्ठ पर लिखिए कि आपको कहाँ कहाँ व्यविस्थत होने की जरूरत है। और इसके लिये आप क्या कार्य करगें? अब शुरू हो जाइये, स्वयं को तथा अपने घर को व्यविस्थत कर डालिये ।

5.अपने शौक पूरे कीजिये …

जीवन में व्यस्तता तथा समय के अभाव में प्रायः हम अपनी इच्छाओं का दमन कर देते हैं, अपने शौक भूल जाते हैं। मेरे कॉलेज के एक सहपाठी को संगीत में बहुत रूचि थी। जब पिछले साल उनसे मुलाकात हुई तो पता चला कि कॉलेज के बाद कॉर्पोरेट लाईफ में इतना व्यस्त हो गये कि संगीत याद ही नहीं आया।

दोस्तों! प्रत्येक व्यक्ति के कुछ न कुछ शौक होते हैं। चाहे वो किसी खेल से जुड़े हों, फिटनेस से जुड़े हों, खान पान से जुड़े हों, कुकिंग या बैकिंग से जुड़े हों या आध्यात्मिकता आदि से सम्बद्ध हो। लेकिन ज्यादातर लोग इनके लिये समय नहीं निकाल पाते हैं।
आइये! इस समय का सदुपयोग हम अपने शौक पूरा करने हेतु करे।

लॉकडाउन में शौक पूरे किजिये

6.अपनी जिम्मेदारी निभाइये…

इसी प्रकार हमारी कुछ जिम्मेदारियां भी होती हैं। सोचिये कि आप अपने जीवन साथी की मदद कर सकते हैं? अपने माता पिता एवं बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम कैसे बिता सकते हैं? यदि वे आपसे दूर हैं तो वीडियो कॉल के माध्यम से आप उनसे कनेक्ट हो सकते हैं। यदि आप अब बड़े हो गये हैं तथा ये समझने लगे हैं कि आप उनसे ज्यादा ज्ञान रखते हैं, तो कुछ समय विचार कर उनकी भावनाओं को समझने का प्रयास करें जो हमेशा आपके प्रति सकारात्मक होती प्रतीत होगी। क्या आप उसके अनुरूप उन्हें आदर दे पाते हैं? अपनी ज़िम्मेदारी निभाइये…

इस समाज ने भी आपको बहुत कुछ दिया है। क्या आप बदले में उसे कुछ लौटा पा रहे हैं।

दोस्तों! यही समय है जब हम अपनी जिम्मेदारियों को समझ कर, उनको निभाने के लिये एक योजनाबद्ध तरीके से कार्य आरभं कर सकते हैं।

अंततः….

 दोस्तों! ये 21 दिन किसी न किसी तरह बीत ही जाने हैं। आप चाहें तो बिना कुछ किये भी इस समय को गुज़ार सकते हैं। किन्तु इनका सही उपयोग कर के हम अपने जीवन की दिशा को एक नया मोड़, एक नया आयाम दे सकते हैं।

दोस्तों! जीवन में आई थकान, उदासी, मायूसी से उबरने का वक़्त आ गया है। उठाइये अपनी डायरी और लिख दीजिये अपने आने वाले कल में सफलता की कहानी।

शुभकामनाओं के साथ..

डॉ लोकेश एन राय.

पुनश्चः कृपया अपने कमेंट नीचे बॉक्स में अवश्य लिखें। मुफ्त सलाह हेतु अपना ई मेल  लिखें।

Facebook
Twitter
Email
WhatsApp

23 Responses

  1. बोहत बढ़िया आपने सही लेख के माध्यम से कैसे इन 21 दिन के lockdown को मानते हुए अपना खुद को कैसे विकास कर सकते है एवं अपने ड्रीम को पूरा कर सकते है

  2. सही समय पर सही लेख सर 👍
    वर्तमान समय जब सब तरफ भय, चिंता और तनाव का वातावरण है ऐसे में आपका यह लेख एक नई रोशनी एक नई दिशा देने वाला है।
    नये आयाम नये उद्देश्य और उमंगो से भरा आपके संदेश के लिए बहुत बहुत धन्यवाद…
    अगले ब्लाग के इंतजार में 👍

  3. 🔔🔔🔔
    *जीवन में कई बार आकस्मिक,अनपेक्षित और अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है परंतु वे अनिष्टकारक तब बनती हैं जब हम उन्हें सही ढंग से नियंत्रित नहीं कर पाते।* वर्तमान समय के भय,संकट और तनावयुक वातावरण में सर आपका यह ब्लाग सबके लिए एक नई दिशा देने वाली है 👍

    1. Thanks Dr Anil. Let us take it positively and use this time to correct our vision and move ahead with more enthusiasm.

  4. You are great motivator mama. In such a tough time, you have given such a wonderful advise to everyone.
    We all are running after our job, our tight schedule etc. We have changed our priorities, may be according to the demand of time. We have to keep a balance between development and our peace, our lifestyle.
    It is right time to introspect and start loving our old hobbies.

    1. Yes Anil. A balance in life is essential. Really, a good time for reflecting on our own life and making corrections.

  5. Bahut badhiya Mamasa… मुसीबतों से भागना, नयी मुसीबतों को निमंत्रण देने के समान है| जीवन में समय-समय पर चुनौतियों एंव मुसीबतों का सामना करना पड़ता है एंव यही जीवन का सत्य है| एक शांत समुन्द्र में नाविक कभी भी कुशल नहीं बन पाता..

    1. What an impactful message Shilpi! In fact, I believe that God gives challenges just to test us for a bigger reward. Thanks a lot.

  6. Very nice & motivational Blog bhaisb. All six points are very useful for us. Yes👍it’s right time to think, write & follow these useful steps of elf improvement.

    1. Sure. These can be most memorable days in our life helping us to reflect on our own life and choose the right path. Thanks a lot.

  7. अति उत्तम विवरण सर, मैं आपसे पूर्णतः सहमत हूँ। जीवन की व्यस्तताओं के चलते हम वास्तव में व केवल परिवार से मित्रों से अपितु स्वयं से कहीं दूर निकल आए हैं। आज कार्यकालीन व्यस्तताओं की दौड़ भाग में हम जीवन व्यापन तो कर रहे हैं परंतु उसे जीने की कला व उनका मर्म कही भुला बैठे हैं। यह 21 दिवस हमें आत्मचिंतन का अवसर प्रदान करते हैं। वास्तव में हमें इन दिनों को वरदान स्वरूप समझ इनका योग्य करना चाहिए।

    1. Very true Ketan. This is the time when we can reignite and come closure to our real dreams.
      Best opportunity for introspection and making corrections.

  8. Bhaisahab, bahut sunder aur margdershk lekh hey. Abhi toh adhiktar samay hum log t.v. se hi chipke rahte hey Kewal CORONA ki news dekhte hey aur Apas meyn comments kerate heyn. Apke lekh meyn bataya Gaya hey kee hum en 21 din ka kese sadupyog ker sakte hey Apne Bhavi Jeevan ke uthaan key liye. Meri koshish raheygi kee isko follow Karen.
    Bahut dhanyvad.

    1. Thanks Satish. Time is precious. In the everyday busy schedule we forget to plan our own journey.
      This is the time to look deep into our life and make corrections.

  9. Just a little late, but read such important information from what you have given and in the upcoming days i will definitely apply this thing in our lifestyle.

  10. Sir… Thank you… I regret mujhe yeah pehle pad lena chahiye tha… Lekin still I have 10days more to implement many of them…

    Starting with fitness for me and quality time for family…

    Dreaming for new goals, make notes of them and take steps to fulfill them

    Apni hobbies par kaam surro karunga… Thoda Samay apne ko ki apne stressed environment ko dur karun…

    Work in direction where ladder placed on correct wall (my aim of life)

    Thank you so much sir, mentoring us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related article